GBK BOOKS

ध्यान के माध्यम से स्वयं को तरोताज़ा एवं रोग-मुक्त करें

dhyaan ke maadhyam se swayam ko tarotaaza ewam rog-mukt karen

​Refresh and Heal Yourself through Meditation

 

पुस्तक / ई-बुक की सामग्री की तालिका (हिंदी में) नीचे पाई जा सकती है।

pustak / e-book kee saamagree kee taalika (hindee mein) neeche paee ja sakatee hai.

The Table of Contents (in Hindi) of the book/eBook can be found below.


लेखिका (lekhika/Author):

ब्रह्मा कुमारी परी (Brahma Kumari Pari)
LL.B. (Hons.)(London), LL.M (Wol.), Ph.D.


लेखिका के बारे में (lekhika ke baare mein​)
About the author


अनुवाद (anuvaad/translation):
आयुषी शर्मा (Aayushi Sharma)


ट्रांसलेटर से संपर्क करें (traansaletar se sampark karen)

Contact the Translator



"ध्यान के माध्यम से स्वयं को तरोताज़ा एवं रोग-मुक्त करें" शीर्षक वाली ई-बुक यहाँ खरीदी जा सकती है ("dhyaan ke maadhyam se swayam ko tarotaaza ewam rog-mukt karen" sheershak vaali e-book yahaan khareedi ja sakti hai / The eBook ​titled "Refresh and Heal Yourself through Meditation" can be purchased at):


1. Amazonhttp://amzn.to/2A6mBWs

2. Apple / iTuneshttps://itunes.apple.com/us/book/id1316076676

3. Google Play

4. Kobohttps://www.kobo.com/my/en/ebook/TMYhO2SSkTWHyOGS0kFPXA

5. Scribd: https://www.scribd.com/book/363649854

6. Tolino

​7. Streetlib



मुद्रित पुस्तक जिसका शीर्षक “ध्यान के माध्यम से स्वयं को तरोताज़ा एवं रोग-मुक्त करें” है, उसे यहाँ से खरीदा जा सकता है (mudrit pustak jiska sheershak "dhyaan ke maadhyam se swayam ko tarontaaza ewam rog-mukt karen" hai, use yahan se khareeda ja sakta hai / The printed book ​titled "Refresh and Heal Yourself through Meditation" can be purchased at):


1.



पुस्तक विवरण :

pustak vivaran:

Book description:


इस पुस्तक में दिए गए ज्ञान और अभ्यासों का प्रयोग करने से, आपके शरीर में मौजूद बीमारियाँ ठीक हो सकती हैं, और आप एक तरोताज़ा, स्वस्थ अवस्था में बने रह सकते हैं। भले ही आपका शरीर रोग-ग्रस्त नहीं है, तब भी आप इस पुस्तक को पढ़ सकते है, ताकि आप यह बेहतर तरीके से समझ पाए की:

is pustak mein die gae gyaan aur abhyaason ka prayog karane se, aapake shareer mein maujood beemaariyaan theek ho sakatee hain, aur aap ek tarotaaza, svasth avastha mein bane rah sakate hain. bhale hee aapaka shareer rog-grast nahin hai, tab bhee aap is pustak ko padh sakate hai, taaki aap yah behatar tareeke se samajh pae kee:


1. कैसे ब्रह्मांडीय ऊर्जाएं आपको अपनी सेवाएं प्रदान करती हैं।

1. kaise brahmaandeey oorjaen aapako apanee sevaen pradaan karatee hain.


2. ईश्वर, ब्रह्मांडीय ऊर्जा, आदि से आपका क्या सम्बन्ध है।
2. eeshvar, brahmaandeey oorja, aadi se aapaka kya sambandh hai.


यह पुस्तक समझाती है की:

yah pustak samajhaatee hai kee:


1. आप कैसे ईश्वर की ऊर्जा को अवशोषित कर अपने शरीर में मौजूद किसी भी बीमारी का उपचार कर सकते हैं।

1. aap kaise eeshvar kee oorja ko avashoshit kar apane shareer mein maujood kisee bhee beemaaree ka upachaar kar sakate hain.


2. किस तरह से ब्रह्मांडीय ऊर्जाओं को स्वयं को बेहतर तरीके से सेवाएं प्रदान करने के लिए प्रेरित करें, ताकि आप अपने लक्ष्य को प्राप्त करते हुए एक बेहतर एवं स्वस्थ जीवन व्यतीत कर पाएं।

2. kis tarah se brahmaandeey oorjaon ko svayan ko behatar tareeke se sevaen pradaan karane ke lie prerit karen, taaki aap apane lakshy ko praapt karate hue ek behatar evan svasth jeevan vyateet kar paen.


3. ब्रह्मांडीय ऊर्जाओं पर सकारात्मक प्रभाव के माध्यम से आप किस तरह खुद का उपचार कर स्वस्थ बने रह सकते हैं, क्योंकि ब्रह्मांडीय ऊर्जा आपके विचारों, भावनाओं, उद्देश्यों, आदि के आधार पर आपको अपनी सेवाएं प्रदान करती हैं।

3. brahmaandeey oorjaon par sakaaraatmak prabhaav ke maadhyam se aap kis tarah khud ka upachaar kar svasth bane rah sakate hain, kyonki brahmaandeey oorja aapake vichaaron, bhaavanaon, uddeshyon, aadi ke aadhaar par aapako apanee sevaen pradaan karatee hain.


4. आप किस तरह अपने होलोग्राफिक शरीर के माध्यम से रोग-मुक्त हो सकते हैं।

4. aap kis tarah apane holograaphik shareer ke maadhyam se rog-mukt ho sakate hain.


5. सार्वभौमिक कानूनों के बारे में, जिनके माध्यम से आपका उपचार होता है।

5. saarvabhaumik kaanoonon ke baare mein, jinake maadhyam se aapaka upachaar hota hai.


6. वे प्रथाएं जिनमें ची और प्राण शामिल हैं, उनका किस प्रकार सफलतापूर्वक उपयोग, किसी भी दवाई के बिना लोगों के उपचार के लिए किया गया है।

6. ve prathaen jinamen chee aur praan shaamil hain, unaka kis prakaar saphalataapoorvak upayog, kisee bhee davaee ke bina logon ke upachaar ke lie kiya gaya hai.


7. किस प्रकार आपकी आत्मा की अशुद्ध ऊर्जाएं आपके शरीर को रोग-ग्रस्त होने के लिए प्रभावित करती हैं, और किस प्रकार आपकी आत्मा की शुद्ध ऊर्जाएं आपके शरीर के उपचार को प्रभावित करती हैं।

7. kis prakaar aapakee aatma kee ashuddh oorjaen aapake shareer ko rog-grast hone ke lie prabhaavit karatee hain, aur kis prakaar aapakee aatma kee shuddh oorjaen aapake shareer ke upachaar ko prabhaavit karatee hain.


8. कैसे आप आत्म जागरूक अवस्था के माध्यम से आसानी से ठीक हो सकते हैं।

8. kaise aap aatm jaagarook avastha ke maadhyam se aasaanee se theek ho sakate hain.


9. कैसे आप अपने मन, बुद्धि और स्मृतियों पर अधिक नियंत्रण पा सकते हैं; और यह किस तरह आपके उपचार में सहायक होगा।

9. kaise aap apane man, buddhi aur smrtiyon par adhik niyantran pa sakate hain; aur yah kis tarah aapake upachaar mein sahaayak hoga.


10. आप किस प्रकार ईश्वर से एक करीबी रिश्ता विकसित कर सकते हैं, जिसके माध्यम से आपको अच्छे स्वास्थ्य सहित जो भी चाहिए या पाना है, उसके लिए आपको ईश्वर की सहायता प्राप्त होगी।

10. aap kis prakaar eeshvar se ek kareebee rishta vikasit kar sakate hain, jisake maadhyam se aapako achchhe svaasthy sahit jo bhee chaahie ya paana hai, usake lie aapako eeshvar kee sahaayata praapt hogee.


11. कैसे आप अपनी आभा और वातावरण के भीतर एंजेलिक (दैवीय) संसार की ऊर्जा प्राप्त कर सकते हैं; और यह कैसे आपके रोगों को ख़त्म करने में मददगार होगा।

11. kaise aap apanee aabha aur vaataavaran ke bheetar enjelik (daiveey) sansaar kee oorja praapt kar sakate hain; aur yah kaise aapake rogon ko khatm karane mein madadagaar hoga.


12. दूरस्थ उपचार के माध्यम से, कैसे आपका और दूसरों का उपचार हो सकता है।

12. doorasth upachaar ke maadhyam se, kaise aapaka aur doosaron ka upachaar ho sakata hai.


13. कैसे आपके पास वे हाथ हो सकते हैं, जो आपके स्पर्श मात्र से उपचार करने में सक्षम हों।

13. kaise aapake paas ve haath ho sakate hain, jo aapake sparsh maatr se upachaar karane mein saksham hon.


14. कैसे ब्रह्मांडीय ऊर्जाएं, बेहतर पोषक तत्त्व और औषधीय मूल्यों वाला भोजन प्रदान कर सकती हैं।

14. kaise brahmaandeey oorjaen, behatar poshak tattv aur aushadheey moolyon vaala bhojan pradaan kar sakatee hain.


15. कैसे ईश्वर का स्मरण करते हुए सोने से, आपका शरीर रोग-मुक्त हो सकता है। 

15. kaise eeshvar ka smaran karate hue sone se, aapaka shareer rog-mukt ho sakata hai. 


इस पुस्तक में दिए गए ज्ञान और ध्यान दिशानिर्देशों का उपयोग कर, आप ईश्वर से संपर्क स्थापित कर अपने शरीर की उपचार प्रक्रिया का आरम्भ करेंगे, इनके संपर्क में आने के माध्यम से:

is pustak mein die gae gyaan aur dhyaan dishaanirdeshon ka upayog kar, aap eeshvar se sampark sthaapit kar apane shareer kee upachaar prakriya ka aarambh karenge, inake sampark mein aane ke maadhyam se:


1. ईश्वर की रोग हरनेवाली शक्तिशाली ऊर्जा, और

1. eeshvar kee rog haranevaalee shaktishaalee oorja, aur


2. ईश्वर की ऊर्जा द्वारा सक्रीय की गयी ब्रह्मांडीय ऊर्जा। ये शक्तिशाली ब्रह्मांडीय ऊर्जाएं (ची या प्राण), ईश्वर और आपको अच्छी तरह अपनी सेवाएं प्रदान करती हैं, क्योंकि वे एक शक्तिशाली स्तर पर हैं।  इस प्रकार, आपके शरीर के सारे रोग तुरंत समाप्त किये जा सकते हैं।

2. eeshvar kee oorja dvaara sakreey kee gayee brahmaandeey oorja. ye shaktishaalee brahmaandeey oorjaen (chee ya praan), eeshvar aur aapako achchhee tarah apanee sevaen pradaan karatee hain, kyonki ve ek shaktishaalee star par hain. is prakaar, aapake shareer ke saare rog turant samaapt kiye ja sakate hain.


आप ताज़ा होने और बने रहने के लिए, अपने आपको ईश्वर की ऊर्जा के संपर्क में भी ला सकते हैं।

aap taaza hone aur bane rahane ke lie, apane aapako eeshvar kee oorja ke sampark mein bhee la sakate hain.​



विषय सूची 
vishay soochee

Table of contents


लेखिका के बारे में
l
ekhika ke baare mein


अध्याय 1:   प्रस्तावना
adhyaay 1: prastaavana


अध्याय 2:   उपचार एवं ताज़गी महसूस करने के लिए आत्मा को सशक्त करना
adhyaay 2: upachaar evan taazagee mahasoos karane ke lie aatma ko sashakt karana

अध्याय 3:   ईश्वर द्वारा रोगों से मुक्ति
adhyaay 3: eeshvar dvaara rogon se mukti

अध्याय 4:   होलोग्राफिक बॉडी के माध्यम से ठीक होना
adhyaay 4: holograaphik bodee ke maadhyam se theek hona

अध्याय 5:   कालचक्र के अनुसार बीमार एवं रोग मुक्त होना
adhyaay 5: kaalachakr ke anusaar beemaar evan rog mukt hona

अध्याय 6:   जागरूक आत्मा तथा जागरूक शरीर
adhyaay 6: jaagarook aatma tatha jaagarook shareer

अध्याय 7:   उपचार हेतु ईश्वर से प्रेममय सम्बन्ध
adhyaay 7: upachaar hetu eeshvar se premamay sambandh 

अध्याय 8:   चिकित्सा से जुड़े सार्वभौमिक कानून
adhyaay 8: chikitsa se jude saarvabhaumik kaanoon

अध्याय 9:   संगम-युग की आभा और पर्यावरण द्वारा उपचार
adhyaay 9: sangam-yug kee aabha aur paryaavaran dvaara upachaar 

अध्याय 10: दूरस्थ उपचार
adhyaay 10: doorasth upachaar

अध्याय 11: निर्माण और उपचार में मानव आत्मा की ऊर्जा की भूमिका
adhyaay 11: nirmaan aur upachaar mein maanav aatma kee oorja kee bhoomika

अध्याय 12: स्पर्श और मालिश के माध्यम से उपचार
adhyaay 12: sparsh aur maalish ke maadhyam se upachaar

अध्याय 13: ऊर्जा प्रदान करने वाले खाद्य और पेय पदार्थों का सेवन
adhyaay 13: oorja pradaan karane vaale khaady aur pey padaarthon ka sevan

अध्याय 14: ईश्वर का स्मरण करते हुए सोने और जागने के लाभ
adhyaay 14: eeshvar ka smaran karate hue sone aur jaagane ke laabh

ब्रह्मा कुमारी परी द्वारा लिखी अन्य पुस्तकें

Brahma Kumaari Pari dvaara likhee any pustaken



मुद्रित पुस्तक "ध्यान के माध्यम से स्वयं को तरोताज़ा एवं रोग-मुक्त करें" का कवर और पीछे वाला कवर 

mudrit pustak "dhyaan ke maadhyam se swayam ko tarotaaza ewam rog-mukt karen" ka kavar aur peechhe vaala kavar

The cover and back cover of the printed book "Refresh and Heal Yourself through Meditation").


......................



वेबसाइट (vebasait / Websites):

http://www.gbk-books.com (किताबों की सूची के लिए / kitaabon kee soochee ke lie / For List of Books)


http://www.brahmakumari.net (मुफ्त में पढ़े जाने वाले लेखों के लिए / mupht mein padhe jaane vaale lekhon ke lie / For articles which can be read for free)