GBK BOOKS

​​​होलोग्राफिक यूनिवर्स: एक परिचय

Holographic Universe: An Introduction

​​


पुस्तक/ई-पुस्तक की विषय – सूची और उसका विवरण हिन्दी मे नीचे दिया गया है

The Table of Contents and description (in Hindi) of the book/eBook can be found below.

 
द्वारा अंग्रेज़ी मे लिखित :
Written in English by:
ब्रह्मा कुमारी परी,
​​LL.B. (Hons.)(London), CLP (Mal.), LL.M (Wol.), Ph.D. 

लेखिका के बारे मे / About the Author

 
द्वारा हिन्दी मे अनुवाद किया गया :
Translated into Hindi by:
नीरू गोयल
 
अनुवाद करने वाले से संपर्क करें / Contact the translator


 
“होलोग्राफिक यूनिवर्स: एक परिचय” नाम की ई-पुस्तक को आप खरीद सकते हो :
The eBook titled "Holographic Universe: An Introduction" can be purchased at:

1. Apple: https://books.apple.com/us/book/id1543205308


2. Kobo: https://www.kobo.com/my/en/ebook/5xp9dbya1Tq19ouAqzx2_A


3. Scribd


4. Streetlib


5. Tolino


6. Google Play: https://play.google.com/store/books/details?id=3l0QEAAAQBAJ


7. Inscribe
 


“होलोग्राफिक यूनिवर्स: एक परिचय” नाम की छपी हुई पुस्तक को आप खरीद सकते हो :
The printed book titled "Holographic Universe: An Introduction" can be purchased at:

 

इस पुस्तक मे जो कुछ भी समझाया गया है उसकी गहराई को समझने के मकसद से इसे पढ़िये। इसे सिर्फ एक 'पाठन सामग्री' मत समझिए। इसे सिर्फ होलोग्राफिक यूनिवर्स के बारे में जानने के लिए मत पढ़िए बल्कि, लेखिका इसके बारे में क्या समझाना चाहती है जब तक आप उसको अनुभव नही करते और समझ नही लेते तब तक उस पर चिंतन करते रहिए। इस पुस्तक मे जो भी लिखा गया है उसकी कल्पना करते समय एक खुला और साफ मस्तिष्क रखने से आपको यह अनुभव करने में मदद मिलेगी कि लेखिका ने क्या अनुभव किया है और आपने उससे अलग क्या अनुभव किया है। परिणाम स्वरूप, आप ये समझ पाएंगे की लेखिका क्या समझाना चाहती है। जब तक आप इस पुस्तक को समझ नही लेते तब तक अगर आप इसे बार बार पढ़ेंगे, तो आपकी होलोग्राफिक यूनिवर्स को अनुभव करने की क्षमता बढ़ती जाएगी।


इस पुस्तक मे होलोग्राफिक यूनिवर्स का स्पष्टीकरण निम्न पर आधारित है :

1. ईश्वर द्वारा मार्गदर्शन

2. ब्रह्म कुमारीयों का ज्ञान

3. क्वांटम यांन्त्रिकी (इस पुस्तक मे कुछ भी क्वांटम यांन्त्रिकी के विपरीत नहीं है)

4. अनुसंधान

5. लेखिका के अनुभव

6. चक्रों और आभा का ज्ञान

7. प्राचीन हिन्दू ग्रंथ आदि

 
इस पुस्तक मे निम्न का स्पष्टीकरण है :

1. होलोग्राफिक यूनिवर्स का स्वरुप और विभिन्न विभाजन

2. सबकुछ विश्व नाटक के अनुसार होता है (आकाशिक रेकोड्स)

3. किस तरह लोग एक ही समय मे दो दुनियाओं - वास्तविक दुनिया और होलोग्राफिक यूनिवर्स मे रहते हैं

4. होलोग्राम की होलोग्राफिक फिल्म जिसमे हम भाग लेते हैं

5. कैसे विभिन्न प्रकार के विश्व मौजूद हैं

6. कैसे क्वांटम उर्जाएँ, होलोग्राफिक यूनिवर्स। के माध्यम भौतिक निकायों और भौतिक विश्व को भौतिक बनाते हैं

7. कैसे भंवरों और चक्रों के माध्यम से निर्माण प्रक्रिया होती है

8. मौत के करीब के अनुभव

9. अलौकिक चेतना

10. कैसे सूक्ष्म आयामों, होलोग्राफिक शरीरों और सूक्ष्म शरीरों का निर्माण होता है

11. कैसे आभा का उपयोग अनुभवों के दौरान होता है

12. कैसे विभिन्न घनत्वों की क्वांटम उर्जाएँ एक अलग प्रकार की वास्तविक दुनिया को हमारे रहने के लिए भौतिक बनाते हैं

13. होलोग्राफिक यूनिवर्स, विश्व परिवर्तन के दौरान कैसे

14. ब्रह्म कुमारीयों का ज्ञान और ध्यान




“होलोग्राफिक यूनिवर्स: एक परिचय” नाम की ई-पुस्तक/पुस्तक की आकृति 1
Figure 1 in the eBook/book titled "Holographic Universe: An Introduction"


 
“होलोग्राफिक यूनिवर्स: एक परिचय” नाम की ई-पुस्तक/पुस्तक की आकृति 2
Figure 2 in the eBook/book titled "Holographic Universe: An Introduction"

 
अध्यायों की रूपरेखा अंग्रेज़ी मे
An outline of the chapters (in English)


 
“होलोग्राफिक यूनिवर्स: एक परिचय” की छपी हुई किताब का पहला और आखरी कवर
Cover and back cover of the printed book titled "Holographic Universe: An Introduction"


 

विषय - सूची (होलोग्राफिक यूनिवर्स: एक परिचय)

परिचय

लेखक के बारे में

अध्याय 1: होलोग्राफिक यूनिवर्स का परिचय

अध्याय 2: प्रकृति का द्विआयामी विश्व नाटक और समय का चक्र

अध्याय 3: विश्व नाटक और आत्मा की दुनिया

अध्याय 4: सूक्ष्म विश्व नाटक

अध्याय 5: होलोग्राफिक यूनिवर्स मे आकस्मिक ऊर्जाओं की भूमिका

अध्याय 6: सूक्ष्म जीवन नाटक

अध्याय 7: मनुस्मृति 1.5 – अंधकारमय क्वांटम विश्व मे गहरे रंग की क्वांटम ऊर्जाओं का वर्णन

अध्याय 8: क्वांटम ऊर्जाओं का प्रकाश और फोटॉन

अध्याय 9: वास्तविक दुनिया और होलोग्राफिक विश्व

अध्याय 10: दुनिया को देखना

अध्याय 11: होलोग्राम या त्रिआयामी सूक्ष्म विश्व-नाटक की होलोग्राफिक फिल्म

अध्याय 12: मनुस्मृति 1.7 – होलोग्राफिक जीव का निर्माण

अध्याय 13: आभा, चक्र और भंवर

अध्याय 14: संसारों का घनत्व

अध्याय 15: अंधकारमय वातावरण मे सूक्ष्म अनुभव और मृत्यु के निकट के अनुभव

अध्याय 16: लौकिक चेतना और अन्य आयाम

अध्याय 17: दूसरे आधे चक्र मे सूक्ष्म अनुभव

अध्याय 18: संगम युग के सूक्ष्म क्षेत्र और सूक्ष्म शरीर

आकृति 1

आकृति 2

ब्रह्मा कुमारी परी द्वारा अन्य पुस्तकें




............................


वेबसाइटें:


http://www.gbk-books.com (पुस्तकों की सूची के लिए)

http://www.brahmakumari.net (उन लेखों के लिए जो मुफ्त में पढ़े जा सकते हैं)