GBK BOOKS


लेखिका के बारे में
lekhika ke baare mein​

About the author



1970 के दशक से लेखिका ध्यान का अभ्यास कर रही है। 1994 में

उनका ब्रह्मा कुमारी के ज्ञान से परिचय हुआ, और तभी से वह एक बीके

(वह जो ब्रह्मा कुमारियों के ज्ञान का उपयोग करते है) बन गयी। एक बीके

बनने के बाद, लेखिका लगातार ईश्वर की ऊर्जा का इस्तेमाल ताज़ा महसूस

करने के लिए, खुद का उपचार करने के लिए, शुद्ध होने तथा स्वर्ण युग में

जाने के लिए कर रही हैं। इस पुस्तक के माध्यम से, लेखिका अपने द्वारा

अर्जित किये हुए ज्ञान और अनुभवों से लोगो का मार्गदर्शन कर रही है, कि

किस तरह खुद को और दूसरों को तरोताज़ा, शुद्ध, एवं रोग-मुक्त रखा जाए।

1996 से, लेखिका इन विषयों पर लेख और पुस्तकें लिख रही हैं:
1. होलोग्राफिक यूनिवर्स।
2. लेखिका के विभिन्न आध्यात्मिक अनुभव।
3. वह ब्रह्मांडीय उर्जा जो विश्व के साथ साथ स्वर्ण-युग को भी प्रदान करती हैं।
4. विभिन्न प्राचीन ग्रंथ एवं मिथक।
5. ब्रह्मा कुमारियों के राज योग, ध्यान अभ्यास, इतिहास, आदि।

उनके कुछ प्रारंभिक लेख, उपचार प्रक्रियाओं के बारे में थे,जो व्यापक शोध और अभ्यास से लिखे गए थे। उन्होंने लिखा था की किस तरह चक्र, एक्यूपंक्चर प्वाइंट्स,आदि के माध्यम से उपचार किया जा सकता है। जब उन्होंने वह लेख लिखे, तो उन्हें सिर्फ अपनी जान-पहचान के लोगो में वितरित किये, ऑनलाइन प्रकाशित नहीं किये थे। उपचार पर लिखे गए उनके उन लेखों के आधार पर, वह कुछ किताबें लिखने की योजना बना रही है, जिसमे वह बताएंगी की किस तरह ईश्वर की ऊर्जा का इस्तेमाल करके मानव शरीर का उपचार किया जाए। वर्तमान पुस्तक उनमें से पहली है। आप क्यों और कैसे ईश्वर की ऊर्जा द्वारा खुद का एवं दूसरों का उपचार कर सकते है यह पुस्तक उसका प्रारंभिक स्पष्टीकरण देती है। 


1970 ke dashak se lekhika dhyaan ka abhyaas kar rahee hai. 1994 mein unaka brahma kumaris ke gyaan se parichay hua, aur tabhee se vah ek beeke (vah jo brahma kumaariyon ke gyaan ka upayog karate hai) ban gayee. ek beeke banane ke baad, lekhika lagaataar eeshvar kee oorja ka istemaal taaza mahasoos karane ke lie, khud ka upachaar karane ke lie, shuddh hone tatha svarn yug mein jaane ke lie kar rahee hain. is pustak ke maadhyam se, lekhika apane dvaara arjit kiye hue gyaan aur anubhavon se logo ka maargadarshan kar rahee hai, ki kis tarah khud ko aur doosaron ko tarotaaza, shuddh, evan rog-mukt rakha jae.

1996 se, lekhika in vishayon par lekh aur pustaken likh rahee hain:
1. holograaphik yoonivars.
2. lekhika ke vibhinn aadhyaatmik anubhav.
3. vah brahmaandeey urja jo vishv ke saath saath svarn-yug ko bhee pradaan karatee hain.
4. vibhinn praacheen granth evan mithak.
5. brahma kumaariyon ke raaj yog, dhyaan abhyaas, itihaas, aadi.

unake kuchh praarambhik lekh, upachaar prakriyaon ke baare mein the,jo vyaapak shodh aur abhyaas se likhe gae the. unhonne likha tha kee kis tarah chakr, ekyoopankchar pvaints,aadi ke maadhyam se upachaar kiya ja sakata hai. jab unhonne vah lekh likhe, to unhen sirph apanee jaan-pahachaan ke logo mein vitarit kiye, onalain prakaashit nahin kiye the. upachaar par likhe gae unake un lekhon ke aadhaar par, vah kuchh kitaaben likhane kee yojana bana rahee hai, jisame vah bataengee kee kis tarah eeshvar kee oorja ka istemaal karake maanav shareer ka upachaar kiya jae. vartamaan pustak unamen se pahalee hai. aap kyon aur kaise eeshvar kee oorja dvaara khud ka evan doosaron ka upachaar kar sakate hai yah pustak usaka praarambhik spashteekaran detee hai.